Posts

Showing posts with the label मोदी राज में देश की अर्थव्यवस्था

ज़रूर देखें पूरा वीडियो ।

Image
 

कांग्रेस का हमला ||कांग्रेस के सवालों के जवाब है मोदी जी के पास ?

Image
 

एतिहासिक धरोहरों और इमारतों को तोड़ने से इतिहास नहीं बदलते ?

Image
 

जीडीपी विकास दर में गिरावट का सिलसिला जारी

Image
28 फरवरी 2020 इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES भारत की सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर में गिरावट का सिलसिला जारी है. साल के तीसरे क्वार्टर यानी अक्टूबर से दिसंबर, 2019 के बीच जीडीपी की वृद्धि दर 4.7 प्रतिशत आंकी गई है. 2012-13 के जनवरी से मार्च की तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर 4.3 प्रतिशत आंकी गई थी, इसके बाद यह न्यूनतम दर है. यह जुलाई से सितंबर, 2019 की तिमाही से भी कम है, तब जीडीपी वृद्धि दर 5.1 प्रतिशत आंकी गई थी. विज्ञापन इससे पिछले वित्तीय साल में अक्टूबर से दिसंबर की तिमाई में जीडीपी वृद्धि की दर 5.6 प्रतिशत थी. सरकार के आंकड़ों से ज़ाहिर है कि उपभोक्ताओं की डिमांड, निजी निवेश और निर्यात, इन मोर्चों पर गिरावट जारी है, जिसके चलते भारतीय अर्थव्यवस्था की सभी मोर्चे पर चुनौतियां बढ़ी हैं, हालांकि इन चुनौतियों से पार पाने के लिए सरकार ने अपना ख़र्चा बढ़ाया है. null और ये भी पढ़ें क्या बांग्लादेश से भारत में अवैध प्र

सुस्ती और महंगाई के इस दौर में 66% भारतीयों के लिए दैनिक खर्चों का प्रबंधन कठिन: सर्वे

Image
नई दिल्ली सुस्ती की मार झेल रही अर्थव्यवस्था पर हुए एक सर्वे में चौंकाने वाला खुलासा सामने आया है। आम आदमी पर महंगाई और आर्थिक मंदी की दोहरी मार पड़ रही है। हालत यह है लगभग 66 फीसदी लोगों को अपने घर का खर्च चलाने में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों का कहना है कि वेतन या तो जस की तस है या फिर यह घट रहा है, लेकिन महंगाई दिन-ब-दिन बढ़ता ही जा रही है, जिसका असर उनके खर्चों पर दिख रहा है। आईएएनएस-सी वोटर ने किया सर्वे आईएएनएस-सी वोटर सर्वेक्षण के अनुसार, सर्वे में शामिल कुल 65.8% उत्तरदाता मानते हैं कि हाल के दिनों में उन्हें दैनिक खर्चों के प्रबंधन में कठिनाइयों का सामना करना पड़ रहा है। सर्वेक्षण के अनुसार बजट पूर्व किए गए इस सर्वेक्षण में आर्थिक पहलुओं पर मौजूदा समय की वास्तविकता और संकेत उभरकर सामने आए हैं, क्योंकि वेतन में वृद्धि हो नहीं रही, जबकि खाद्य पदार्थों सहित आवश्यक वस्तुओं की कीमतें पिछले कुछ महीनों में बढ़ी हैं। 45 सालों की ऊंचाई पर बेरोजगारी पिछले साल जारी की गई बेरोजगारी दर का आंकड़ा 45 सालों की ऊंचाई पर है। दिलचस्प बात यह है कि 2014 में संयुक्त प्रग

देश बर्बादी की तरफ ? वाराणसी में प्याज 120 रुपए प्रति किलो, देश के कई शहरों में यह 200 रुपए तक बिका है !

Image
उत्तरप्रदेश / दूल्हा और दुल्हन ने पहनाई प्याज-लहसुन की माला, मेहमानों ने भी प्याज और लहसुन की टोकरियां गिफ्ट में दी दूल्हे के गले में प्याज-लहसुन की माला डालती दुल्हन। यहां प्याज 120 रुपए प्रति किलो बिक रही है। नवदंपती ने प्याज की ऊंची कीमतों का विरोध करने के लिए अनूठा तरीका अपनाया वाराणसी में प्याज 120 रुपए प्रति किलो, देश के कई शहरों में यह 200 रुपए तक बिका है Dainik Bhaskar Dec 14, 2019, 12:20 PM IST वाराणसी.  वाराणसी में दूल्हा और दुल्हन ने शादी के दिन एक-दूसरे को फूलों की जगह प्याज और लहसुन की माला पहनाई। शादी में आए मेहमानों ने भी नवदंपती को उपहार में प्याज और लहसुन की टोकरियां भेंट की हैं। पिछले एक महीने से प्याज की कीमतें तेजी से बढ़ी हैं। लोग अपनी-अपनी तरह से इसकी कीमतों को लेकर विरोध जताने नए-नए तरीके खोज रहे हैं। इस शादी में दूल्हा और दुल्हन ने भी प्याज और लहसुन की माला का इस्तेमाल विरोध स्वरूप ही किया है। वाराणसी में अभी प्याज 120 रुपए प्रति किलोग्राम तक बिक रहा है। नवदंपती और मेहमानों का प्याज की ऊंची कीमतों का विरोध आसपास के लोगों में चर्चा का विषय रहा। इससे पह

मोदी राज में महंगाई का हाल -चावल 3 महीने में 3 रुपए महंगा -गेहूं जनवरी से दिसंबर में 4 रुपए महंगा -अरहर दाल साल भर में 16 रुपए किलो महंगी -उड़द दाल 12 महीने में 24 रुपए किलो महंगी -मूंग दाल 12 महीने में 14 रुपए महंगी -नमक तक 25 पैसे महंगा पड़ने लगा -जनवरी में 18 वाला प्याज, दिसंबर में 81 का हुआ

Image
घंटी बजाओ: अर्थव्यवस्था की हालत खस्ता लेकिन समाधान के नाम पर देश में मजाक चल रहा है? जब महंगे प्याज की समस्या से समाधान जनता को देने की जरूरत हुई तब संसद में मंत्री गण जुमलेवादी समाधान देते नजर आए थे. क्या सच यही है कि देश में महंगाई, आर्थिक सुस्ती से जुझती अर्थव्यवस्था के अहम मुद्दों पर समाधान देने की जगह जुमलों का मजाक हो रहा है ? By: एबीपी न्यूज़ Updated: 13 Dec 2019 10:56 PM नई दिल्ली: गुरुवार को झारखंड की चुनावी रैली में राहुल गांधी ने महिला सुरक्षा पर 'रेप इन इंडिया' कहकर मोदी सरकार पर हमला किया. लोकसभा में आज शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन इसी मुद्दे पर सत्ताधारी दल की तरफ से महिला सांसदों ने राहुल गांधी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया गया. स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी से मांफी की मांग की. इतना ही नहीं बीजेपी की महिला महिला सांसद राहुल गांधी के खिलाफ चुनाव आयोग भी पहुंच गईं. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि बयान से छेड़छाड़ करके बीजेपी ने हंगामा इसलिए संसद में कराया ताकि असम में नागरिकता संशोधन बिल को लेकर हो रहे उपद्रव समेत देश के दूसरे अहम मुद्दों से ध्यान भटकाया जा सके ? क्

देश में महंगाई का हाल एक नज़र में ! न खाएंगे न खाने देंगे

Image
इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES खाद्य महंगाई दर छह साल में पहली बार इतनी बढ़ी पिछले छह वर्षों में ऐसा पहली बार हुआ है जब नवंबर महीने में खाने-पीने की चीज़ों में महंगाई दर दो अंकों में पहुंच गई है. केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसो) द्वारा जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार दिसंबर 2013 के बाद से पहली बार पिछले महीने नवंबर में खाद्य महंगाई दर 10.1 फ़ीसदी हो गया. इसके अलावा नवंबर महीने में खुदरा महंगाई दर 5.54 फ़ीसदी पर पहुंच गई और औद्योगिक उत्पादन दर घटकर 3.8 फ़ीसदी पर आ गया. खाद्य मंहगाई दर पर नज़र डालें तो अगस्त के बाद से इसमें तेज़ी से बढ़त देखी गई है. अगस्त महीने में यह 2.99 फ़ीसदी था जो सितंबर में बढ़कर 5.11 फ़ीसदी, अक्टूबर में 7.89 फ़ीसदी और नवंबर 10.1 फ़ीसदी तक पहुंच गया. https://www.bbc.com/hindi/india-50768941 ये भी पढ़ें :  भारत की अर्थव्यवस्था इस हाल में क्यों है

देश की सत्ता की पोल खोलती एक आवाज़ , उस आवाज़ का नाम है राहुल बजाज ।

Image

गिरती जीडीपी से आम आदमी को क्या डरना चाहिए?

Image
इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES लगातार बुरे दौर से गुज़र रही भारत की अर्थव्यवस्था को लेकर चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. शुक्रवार को सामने आए आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक़, भारत की अर्थव्यवस्था में जुलाई से सितंबर के बीच देश का सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी महज़ 4.5 फ़ीसदी ही रह गई. यह आंकड़ा बीते 6 सालों में सबसे निचले स्तर पर है. पिछली तिमाही की भारत की जीडीपी 5 फ़ीसदी रही थी. जीडीपी के नए आंकड़े सामने आते ही विपक्षी दल कांग्रेस ने सरकार को घेरना शुरू कर दिया. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ''भारत की जीडीपी छह साल में सबसे निचले स्तर पर आ गई है लेकिन बीजेपी जश्न क्यों मना रही है? क्योंकि उन्हें लगता है कि उनकी जीडीपी (गोडसे डिवीसिव पॉलिटिक्स) से विकास दर दहाई के आंकड़े में पहुंच जाएगी.'' null आपको ये भी रोचक लगेगा क्या फ़िल्मों से पता चल सकता है अर्थव्यवस्था का हाल? 'आम आदमी को पुलवामा परोसने से अर्थव्यवस्था नहीं