Posts

Showing posts with the label #Gujrat

गुजरात दंगे के दोषियों को बेल कैसे मिल जा रही?

Image
मिहिर देसाई प्रोफ़ेसर, हार्वर्ड लॉ स्कूल इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए इमेज कॉपीरइट AFP गुजरात के सरदारपुरा दंगा मामले में 14 दोषियों को ज़मानत देने का सुप्रीम कोर्ट का फ़ैसला चौंकाने वाला है. इन लोगों को पूरी सुनवाई के बाद साल 2002 के दंगों में 33 बेकसूर मुसलमानों को ज़िंदा जलाने का दोषी पाया गया था. मरने वालों में 17 महिलाएं और दो बच्चे थे. इस मामले में 56 लोग (हिंदू) अभियुक्त थे. सभी को दो महीने के अंदर इस जनसंहार में ज़मानत मिल गई. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट को गुजरात में न्यायिक सुनवाई में गड़बड़ी का अहसास हुआ था तो सरदारपुरा समेत आठ मामलों की जांच के लिए एसआईटी, स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्युटर और अलग से जजों को नियुक्त किया गया था. विज्ञापन आख़िरकार 31 लोगों को ट्रायल कोर्ट में दोषी ठहराया गया और उन्हें उम्र क़ैद की सज़ा मिली. इसके बाद हाई कोर्ट में इस फ़ैसले को चुनौती दी गई और 31 में से 14 की उम्र क़ैद की सज़ा बरकरार रही थी. सामान्य हालात में इन मामलों मे

यूनिवर्सिटीज पर कंट्रोल का गुजरात मॉडल दिल्ली तक .......?

Image
Hindi News राष्ट्रीय वरिष्ठ पत्रकार का दावा- यूनिवर्सिटीज पर कंट्रोल का गुजरात मॉडल पहुंच चुका दिल्ली, कुलपति बन रहे सियासी दलों के वफादार JNU Students Protest, JNU Violence: वरिष्ठ पत्रकार ने लिखा कि विश्वविद्लायों का राजनीतिकरण अकादमी की गुणवत्ता सुधारने के लिए नहीं बल्कि किसी मुद्दे पर आवाज उठाने वाले छात्रों की एकता को खत्म करने के लिए किया जाता है। जनसत्ता ऑनलाइन Edited By Nishant Nandan Updated: January 18, 2020 10:34 am NEXT जेएनयू हिंसा: 5 जनवरी को परिसर के अंदर का दृश्य। JNU Students Protest, JNU Violence:  वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने अपने एक लेख के जरिए कहा है कि यूनिवर्सिटीज पर कंट्रोल का ‘गुजरात मॉडल’ अब दिल्ली पहुंच चुका है। दरअसल वरिष्ठ पत्रकार ने 5 जनवरी को दिल्ली स्थित जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में हुई हिंसा का जिक्र करते हुए एक आर्टिकल ‘हिन्दुस्तान टाइम्स’ में लिखा है। लेख में अपनी बात रखते हुए वरिष्ठ पत्रकार ने लिखा है कि ‘जेएनयू से पहले वडोदरा मे महाराजा सायाजीराव विश्वविद्यालय में ऐसा हुआ था। मई, 2007 में विश्व हिंदू परिषद् (VHP