Posts

Showing posts with the label Mobile_Internet

मोबाइल फ़ोन की बैटरी और डेटा जल्दी ख़त्म होना, हैंकिंग के संकेत तो नहीं?

Image
  इमेज स्रोत, GETTY IMAGES क्या आपके फ़ोन की बैटरी जल्दी ख़त्म हो जाती है ? क्या फ़ोन का डेटा जल्दी ख़त्म हो जाता है? अगर आप फ़ोन का ज़्यादा इस्तेमाल करने लगे हैं तो हो सकता है ये आपके डेटा प्लान को बदलने का समय है. अगर नहीं, तो मुमकिन है कि कोई हैकर आपके फ़ोन से छेड़छाड़ कर रहा है. फ़ोन की सुरक्षा से छेड़छाड़ के कारण आपकी पहचान और प्राइवेसी से जुड़ा डेटा लीक हो सकता है. मौजूदा दौर में फ़ोन हैक करने के तरीके बदल रहे हैं और अब हैकरों को पकड़ना भी मुश्किल हो गया है. विज्ञापन उत्तर कोरिया के हैकर्स ने जब बांग्लादेश का पूरा फ़ॉरेन करेंसी रिज़र्व उड़ा लिया गूगल, फ़ेसबुक, ऐपल और अमेज़न की मनमानी होगी ख़त्म? लगाम लगाने की तैयारी में जुटा अमेरिका लेकिन कुछ सावधानियां बरत कर आप अपना फ़ोन सुरक्षित रख सकते हैं. छोड़कर और ये भी पढ़ें आगे बढ़ें और ये भी पढ़ें उत्तर कोरिया के हैकर्स ने जब बांग्लादेश का पूरा फ़ॉरेन करेंसी रिज़र्व उड़ा लिया अमेरिका में साइबर हमले के पीछे रूस पर संदेह क्यों अमेरिका में बड़ा साइबर हमला, इमरजेंसी लगी; क्या कोरोना का फ़ायदा उठाया हैकरों ने? भारत में कोरोना की दूसरी लहर बे

कितना महंगा होने जा रहा है मोबाइल इंटरनेट और क्यों ?

Image
इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए इमेज कॉपीरइट GETTY IMAGES Image caption मोबाइल डेटा आधारित एप्स का भारत में तेज़ी से विस्तार हो रहा है भारत ऐसा देश है जहां पर मोबाइल डेटा की दरें दुनिया में सबसे कम हैं. यहां पर चीन, जापान और दक्षिण कोरिया से भी सस्ता मोबाइल डेटा मिलता है. लेकिन आने वाले समय में भारतीय ग्राहकों को इसी डेटा के लिए ज़्यादा रकम चुकानी पड़ सकती है. ऐसा इसलिए क्योंकि दो प्रमुख टेलिकॉम कंपनियों ने जल्द ही मोबाइल डेटा का दाम बढ़ाने की घोषणा की है. भारतीय बाज़ार में एयरटेल और वोडाफ़ोन-आइडिया की राजस्व के मामले में आधे से ज़्यादा हिस्सेदारी है. ये दोनों ही कंपनियां जल्द ही मोबाइट डेटा को महंगा करने वाली हैं. हाल ही में दोनों कंपनियों ने चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही में 10 अरब डॉलर का घाटा दिखाया है. ऊपर से सुप्रीम कोर्ट ने एक पुराने मामले को निपटाते हुए हाल ही में आदेश दिया है कि सभी टेलिकॉम कंपनियों को 90,000 करोड़ रुपए की रकम सरकार को देनी होगी. इसी के बाद वोडाफ़ोन ने