Posts

पालघर लिंचिंग: पुलिस वालों ने इसलिए नहीं बचाया साधुओं को

नेताओं को तो हत्या पर रोटियाँ सेंकते देखा जाता है , लेकिन ये पत्रकासर कब से रोटियाँ सेंकने लगे हत्याओं पर ।

अब आगे क्या ......?

दिमाग मे जहर भरने वाले लोगों और पत्रकारों से होशियार रहें ।

#Palghar कांड । मुसलमानों का चोला उतारने के चक्कर में खुद का चोला उतर गया । निर्दोषों को कब तक बदनाम करोगे ?

पालघर लींचिंग । क्या वहां मुसलमान रहते हैं । अगर नहीं तो फिर इस घटना को संप्रादायिक ऐंगल देने वालों के खिलाफ कितने लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है ?