Posts

Showing posts with the label #Pakistani_Holi

पाकिस्तान :- होली मनाते हिंदू-मुसलमान

  होली के रंग में आज हिन्दुस्तान रंगा.. लेकिन पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान भी रंगों से अछूता नहीं रहा. पाकिस्तान के थारपारकर इलाक़े की 80 फ़ीसदी आबादी हिंदू है. भारत के गुजरात और राजस्थान से लगने वाले इस इलाक़े में हिंदुओं के साथ मुसलमान भी होली मनाते हैं. थारपारकर के मिठी क़स्बे से.शुमाइला ख़ान की रिपोर्ट. ( बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप  यहां क्लिक  कर सकते हैं. आप हमें  फ़ेसबुक ,  ट्विटर ,  इंस्टाग्राम  और  यूट्यूब  पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

पाकिस्तानी सेना पर चुनी हुई सरकार हटाने के लिए दबाव डाला जा रहा है: इमरान ख़ान - उर्दू प्रेस रिव्यू

Image
  इकबाल अहमद बीबीसी संवाददाता इमेज स्रोत, EPA/JAWAD JALALI पाकिस्तान से छपने वाले उर्दू अख़बारों में इस हफ़्ते इमरान ख़ान की सरकार और विपक्षी महागठबंधन के बीच जारी रस्साकशी और कोरोना से जुड़ी ख़बरें सुर्ख़ियों में थीं. विपक्षी महागठबंधन पाकिस्तान डेमोक्रैटिक मूवमेंट (पीडीएम) और इमरान ख़ान के बीच जारी राजनीतिक जंग रुकने का नाम नहीं ले रही है. इमरान ख़ान ने एक निजी टीवी चैनल को इंटरव्यू देते हुए कहा कि विपक्ष उन्हें सत्ता से हटाने के लिए सेना को ब्लैकमेल कर रहा है. इमरान ख़ान का यह इंटरव्यू पाकिस्तान के सारे अख़बारों में पहले पन्ना पर छाया रहा. विज्ञापन अख़बार एक्सप्रेस ने इस पर सुर्ख़ी लगाई है, 'हुकूमत को हटाने के लिए विपक्ष सेना को ब्लैकमेल कर रहा है, जनरल बाजवा (पाकिस्तानी सेना प्रमुख) बर्दाश्त कर रहे हैं.' छोड़कर और ये भी पढ़ें आगे बढ़ें और ये भी पढ़ें पाकिस्तान में इमरान ख़ान और विपक्ष के बीच बढ़ा टकराव- उर्दू प्रेस रिव्यू पाकिस्तान बोला, भारत की ज़िद से कुलभूषण मामले में हो रही दिक़्क़त - उर्दू प्रेस रिव्यू पाकिस्तान: नवाज़ शरीफ़ फ़ौज पर इतने हमलावर क्यों हो रहे हैं? - उर्द

कोरोना लॉकडाउन के दौरान पाकिस्तान ने कपड़ा बाज़ार में भारत को पीछे छोड़ा?

Image
  तनवीर मलिक पत्रकार, कराची से बीबीसी उर्दू के लिए 17 दिसंबर 2020 पाकिस्तान में कपड़ा उद्योग के केंद्र फ़ैसलाबाद के रहने वाले ख़ुर्रम मुख़्तार कपड़ा निर्यातक हैं. ख़ुर्रम मुख़्तार यूरोपीय और अमेरिकी बाज़ारों में कपड़ा उत्पादों का निर्यात करते हैं. हाल के महीनों में, उनके व्यवसाय में तेज़ी देखी गई है. उन्हें विदेशों से पहले की तुलना में अधिक ऑर्डर मिल रहे हैं. ख़ुर्रम मुख़्तार के अनुसार, उन्हें मिलने वाले अधिकांश ऑर्डर्स में, उत्पादों की प्रतिस्पर्धी क़ीमतों ने एक अहम भूमिका निभाई. इसके अलावा कोरोना महामारी के कारण भारत में लगे लॉकडाउन की वजह से भी उन्हें लाभ हुआ है. ख़ुर्रम का कहना है कि, भारत में लॉकडाउन के कारण निर्यात की सप्लाई चेन एक तरह से टूट गई थी. इसलिए उनके विदेशी ख़रीदारों ने पाकिस्तान का रुख़ किया. इसी वजह से उनकी कंपनी को भी पिछले कुछ महीनों में अधिक ऑर्डर मिले हैं. विज्ञापन उनके अनुसार, उनमें से ज़्यादातर होम टेक्सटाइल, डेनिम और अपीरल उत्पादों के ऑर्डर थे. ऑर्डर देने वालों में वो ख़रीदार भी शामिल थे, जो पहले भारत से इन उत्पादों को ख़रीद रहे थे. छोड़कर और ये भी पढ़ें आगे बढ