Posts

Showing posts with the label #Corona_Virus_Covid_19IndiaUpdate

भारत का हाल बेहाल, अनलॉक-4 से पहले कोरोना से 62,550 मौतें

भारत में शनिवार को कोरोना संक्रमण के कुल 76,472 नए मामले दर्ज किए गए. ये आंकड़े शुक्रवार को रिकॉर्ड मामलों (77 हज़ार से ज़्यादा) से थोड़े ही कम हैं. हालांकि देश में पिछले कुछ दिनों से कोविड-19 के 70 हज़ार से ज़्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं और स्थिति लगातार चिंताजनक बनी हुई है. भारत में अब तक कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 34 लाख से ज़्यादा हो चुकी है. संक्रमण मामलों की कुल संख्या के लिहाज से भारत दुनिया में सिर्फ़ अमरीका और ब्राज़ील से ही पीछे है. दे देश में पिछले दो हफ़्तों के दौरान एक दिन में आने वाले संक्रमण मामलों की संख्या में रिकॉर्ड इजाफ़ा हुआ है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना की चपेट में आकर 1,021 लोगों की मौत हुई है और इसी के साथ महामारी से जान गंवाने वालों का आंकड़ा 62,550 हो गया है. इधर, एक सितंबर से देश भर में अनलॉक-1 के तहत कई पाबंदियों में ढील दिए जाने की योजना है. पिछले दिनों दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था कि राजधानी में ज़िंदगी वापस पटरी पर लाने के लिए मेट्रो सेवा

मौतो में भारी उछाल नीचे के लिंक पर क्लिक कर जानें पूरा हाल ।

Image
https://m.facebook.com/story.php?story_fbid=565252014179449&id=2690560254501884

अस्पतालों के चक्कर लगाती रही गर्भवती महिला, किसी ने नहीं किया भर्ती, एंबुलेंस में मौत

Image
समीरात्मज मिश्र बीबीसी हिंदी के लिए इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए इमेज कॉपीरइट SHALENDRA KUMAR तीस वर्षीय गर्भवती महिला के परिजन नोएडा और ग़ाज़ियाबाद के अस्पतालों में उसे लेकर घंटों घूमते रहे, आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, मिन्नतें कीं लेकिन अस्पतालों ने महिला को भर्ती नहीं किया. आख़िरकार महिला ने अपने गर्भस्थ शिशु के साथ एंबुलेंस में ही दम तोड़ दिया. यह पूरी घटना राजधानी दिल्ली से लगे उत्तर प्रदेश के दो सबसे हाई प्रोफ़ाइल कहे जाने वाले ज़िलों में हुई है. इस पूरी घटना का संज्ञान लेते हुए नोएडा के डीएम सुहास एलवाई ने जांच के आदेश दिए हैं. ग़ाज़ियाबाद ज़िले की खोड़ा कॉलोनी निवासी नीलम कुमारी आठ महीने की गर्भवती थीं. तबीयत ख़राब होने की वजह से नीलम कुमारी के पति ब्रजेंद्र अपने भाई के साथ अस्पताल ले जाने लगे. मृतका के जेठ (पति के बड़े भाई) शैलेंद्र कुमार ने बीबीसी को बताया कि शुक्रवार को सुबह छह बजे से लेकर शाम साढ़े सात बजे तक वो लोग अस्पताल दर अस्पताल घूमते रहे लेकिन कहीं भ

कोरोना के मामले में भारत का स्थान अब तक ...?

Image

#Corona की तैयारी के आगे सरकारी तैयारी धरी के धरी रह गई....

Image
कोरोना वायरस ने सिर्फ़ मुझे लाचार नहीं किया, मेरे परिवार को भी बर्बाद कर दिया' रॉक्सी गागडेकर छारा संवाददाता, बीबीसी गुजराती इस पोस्ट को शेयर करें Facebook   इस पोस्ट को शेयर करें WhatsApp   इस पोस्ट को शेयर करें Messenger   साझा कीजिए मेरी भांजी खुशाली तामैची को जिस समय उसकी 12वीं कक्षा का अंक प्रमाण पत्र मिला, उसकी आंखों में आंसू थे. वो अपने बैच के उन कुछ बच्चों में से एक थी जो प्रथम श्रेणी से पास हुए थे. उसे जानने वाला हर शख़्स इसकी वजह जानता था. यही वो दिन था जिसके लिए उसके पिता ज़िंदा थे. उसके पिता उमेश तामैची की कुछ दिन पहले ही कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मौत हो गई थी. उमेश 44 साल के थे. वो अहमदाबाद मेट्रो कोर्ट में बतौर वरिष्ठ अधिवक्ता थे. 12 मई को उनका टेस्ट हुआ जिसमें वो कोरोना पॉज़िटिव पाए गए. यह सोमवार देर शाम 11 मई की बात थी जब उन्हें सांस लेने में तकलीफ़ महसूस हुई. जिसके बाद मेरी बहन शेफ़ाली उन्हें पास के ही एक प्राइवेट अस्पताल ले गई. आनंद सर्जिकल अस्पताल को कुछ दिन पहले ही अहमदाबाद नगर निगम ने कोविड-19 के मरीज़ों के लिए सूचीबद्ध किया था