Posts

Showing posts with the label Farmers Protest || Delhi || India

किसान आंदोलन में मारे गए आंदोलनकारियों के लिए सरकार ज़िम्मेदार- जोगिंदर सिंह उगराहां

Image
  BBC News , हिंदी सामग्री को स्किप करें सेक्शन होम पेज कोरोनावायरस भारत विदेश मनोरंजन खेल विज्ञान-टेक्नॉलॉजी सोशल वीडियो विज्ञापन सरबजीत सिंह धालीवाल बीबीसी पंजाबी के लिए 2 घंटे पहले इमेज स्रोत, SANCHIT KHANNA/HINDUSTAN TIMES VIA GETTY IMAGES इमेज कैप्शन, किसान नेता जोगिंदर सिंह उगराहां नए कृषि क़ानून रद्द करने की मांग को लेकर पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश समेत देश के कई राज्यों के किसान बीते 110 दिनों से दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर डटे हुए हैं. जो किसान अभी तक ट्रॉलियों में और तिरपाल के टेंट बनाकर रह रहे थे, अब उन्होंने पक्के मकान बनाना शुरू कर दिया है. हालांकि सरकार और किसानों के बीच का गतिरोध अभी दूर होती नहीं दिख रहा है. किसान आंदोलन की वर्तमान स्थिति और अगली रणनीति के बारे में बीबीसी के पत्रकार सरबजीत सिंह धालीवाल ने किसान नेता जोगिंदर सिंह उगराहां से की बात. विज्ञापन वीडियो कैप्शन, किसान आंदोलन का मुद्दा ब्रितानी संसद में पहुंचा सवाल: किसान आंदोलन को 100 दिन पूरे हो गए हैं और आंदोलन की वर्तमान स्थिति क्या है ? छोड़कर और ये भी पढ़ें आगे बढ़ें और ये भी पढ़ें किसान आंदोलन: क्या सरका

Sarkar ki gaddi Khatre mein ? || Kisan Aandolan ||

Image
 

सरकार का हर हथकंडा नाकाम ।।

Image
 

रिहाना, ग्रेटा और मीना हैरिस के ट्वीट के बाद भारत सरकार ने क्या कहा

Image
  इमेज स्रोत, GETTY IMAGES/TWITTER भारत सरकार ने किसान आंदोलन के मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय हस्तियों की ओर से किए गए ट्वीट्स के बाद किसी का नाम लिए बग़ैर टिप्पणी की है. विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि सोशल मीडिया पर बड़ी हस्तियों को ज़िम्मेदारीपूर्वक व्यवहार करना चाहिए. इससे पहले अमेरिकी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस, पर्यावरणविद ग्रेटा थनबर्ग, पूर्व पॉर्न स्टार मिया ख़लीफ़ा और पॉप सिंगर रिहाना ने इस मुद्दे पर ट्वीट किया है. रिहाना ने इस मुद्दे पर ट्वीट करके लिखा है कि "इस बारे में कोई बात क्यों नहीं कर रहा है?" अब तक रिहाना के इस ट्वीट को 224 हज़ार बार रिट्वीट किया जा चुका है. छोड़िए Twitter पोस्ट, 1 पोस्ट Twitter समाप्त, 1 इसी तरह मीना हैरिस ने लिखा है कि "यह कोई संयोग नहीं है कि एक महीने से भी कम समय पहले दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र पर हमला हुआ था और अब हम सबसे बड़ी आबादी वाले लोकतंत्र पर हमला होते देख रहे हैं. यह एक-दूसरे से जुड़ा हुआ है. हम सभी को भारत में इंटरनेट शटडाउन और किसान प्रदर्शनकारियों पर सुरक्षाबलों की हिंसा को लेकर नाराज़गी जतानी चाह